best Ayurvedic sexologist clinic in Delhi

Tips for Finding the Best Ayurvedic Sexologist Clinic in Delhi

There are many Ayurvedic sexologist clinics in cities like Delhi that can help you lead a life that is free from stress, anxiety, and hopelessness. Despite being home to several established and affordable sexologist clinics in the city, not many are able to take advantage of their presence, either because of ignorance or lack of faith in Ayurvedic treatments. Whatever the reason, there is a need for you to find the best Ayurvedic sexologist clinic in Delhi, especially if you’ve been dealing with sex-related problems.

With so many sexologists already plying their trade in Delhi, it isn’t easy for a common man to find the right clinic to share their concerns and find the right solutions in their endeavor to lead a happy and satisfied life. Ayurvedic sexologist clinics like these are hard to find but when they’re eventually found, they’ll have the requisite counseling capabilities, procedures, and diagnostic skills that are expected out of them. In Delhi, for example, Ashok Clinic fits into the category of being one of the finest centers that can provide you with a comprehensive, affordable, and trusted sexual health treatment you can ever get.

Here are some tips for finding the best Ayurvedic sexologist clinic in Delhi:

  1. If you’re internet freak, you can always rely on search engines to find the top sexologists in your area and go through the feedback they’ve garnered over the years. This will help you zero in on professionals that are competent, affordable, and truly care for the needs of patients.
  2. It is also a good idea to talk to your partner and find out if there is anyone in her circle of friends and relatives that can refer you to a suitable Ayurvedic sexologist in Delhi. Also, open up to her in discussing your problems. There are chances she will understand what you’re going through and may offer you suggestions that can do a whole lot of good to you in the long run.
  3. Talking to your friends who have gone through similar phases is also a great way of finding the best Ayurvedic sexologist clinic in Delhi. There are millions of men in this world that go through sexual problems of one kind of the other. All you need to do is strike a conversation with them and understand it may feel like going through these processes. For example, you may ask them about the strategies they employed in selecting the best sexologist clinic in Delhi. Maybe, their inputs could be of some help to you.
  4. Do not forget to check out various hoardings in Delhi in finding whether a clinic or doctor can serve your purpose or not. Different clinics may specialize in providing different sexual-related treatments. Just make sure that your chosen clinic provides services that will address your problems.
  5. Visiting online forums and checking out what other people have to say about the clinic is also a good idea. If you already have a list of professionals that can help address your issue, then the process of selecting the best Ayurvedic sexologist clinic in Delhi becomes a lot easier.

 

Nightfall Treatment Doctor in Delhi

Watch Out for Nightfall Treatment Doctor in Delhi

Nightfall Treatment Doctor in Delhi

The exact cause of nightfall is still not clear for the experts in the field! In fact, a majority of them believe the reason could be related to erotic thoughts, being sexually inactive for a long time, to excessive masturbation. Whatever the logic is; one thing is for sure – this isn’t a major problem until it starts happening over and over again. It is only when you reach this situation that you need to opt for the services of a nightfall treatment doctor in delhi. Whenever the problem of nightfall becomes regular, it starts affecting your well-being. During these times, you’ll start feeling sexually weak; will be unable to indulge in normal intercourse due to premature ejaculation, and feel tired most of the times.

When you consult nightfall treatment doctor in delhi, he will definitely try stopping ejaculation while you’re asleep. Thus, the strategy of the doctor will be to help gain full control over your reproductive system and counteracting possible side-effects that may have arisen out of this condition. An efficient nightfall treatment procedure will be one in which extra vitality and energy will be provided to you that will assist you in improving your sexual endurance and performance. At the end of the day, permanent results will be achieved only when all aspects of unpleasant nocturnal emissions or nightfall are covered successfully.

Your nightfall treatment doctor in delhi will, in all probability, will try eliminating anxiety and stress and enable methods to help you get a good night’s sleep. All this and more approaches will be adopted by the doctor to bring your nightfall condition under control and help you gain your love for life. As a helpful tip, your doctor may even recommend some relaxation techniques like meditation or yoga. On your part, it is better to find an environment that is best for relaxation or sleep. All you need to do is find a quiet and peaceful place that is aired and clean.

You may find this hard to believe, but it is a known fact that diet and excessive nightfall are connected. Did you know for the optimum health of your reproductive system, certain mineral and vitamins play a key role? For example, for lovemaking abilities, it is important to have Vitamin B, selenium, and zinc in the right proportions. Then there is an option for individuals suffering from nightfall to take in supplements, especially if their dietary pattern is not helping much. However, you need to keep in mind that alcohol, caffeine, and nicotine are not much of help in your endeavor to keep nightfall under control.

The nightfall treatment doctor in delhi may also suggest you try out various natural ingredients in your attempt to put an end to nightfall problems. These ingredients may be available to you in different forms like capsules, saffron, Ashwagandha, Shilajit, etc. For assured results and affordable treatment, it is suggested that you try Ashok Clinic in Delhi. Their expert team of doctors will work closely with you in understanding your problem and finding out solutions amicably.

prostate enlargement treatment in Delhi

Effective Prostate Enlargement Treatment in Delhi

Prostate Enlargement Treatment in Delhi.

One of the most common conditions men aged 50 years and above face is BPH or Benign Prostate Hyperplasia. In simple terms, it is also called as prostate enlargement. Though many people mistake enlargement of prostate to prostate cancer, the truth is far from it. In fact, when detected early, there are high chances of getting this condition treated effectively. However, on the other hand, the condition can get worsened when it is left unattended for a long time. The good news for people suffering from this condition is that it is possible to get effective and affordable prostate enlargement treatment in Delhi.

Yes, you heard it right! You’ll no longer need to visit other cities or country to get assured treatment from an enlarged prostate. You’re sure to get systematic relief right here in Delhi. All you need to do is find a suitable clinic or doctor that can address your issue in the right earnest. Ashok Clinic, in the heart of Delhi, fits the bill perfectly in this regard. This treatment center has been around for a while now and is well-known for providing guaranteed and affordable prostate enlargement treatment in Delhi. So, if you’ve been suffering from this condition or know someone dealing with it, Ashok Clinic can help immensely.

Before you set out to find an effective prostate treatment in Delhi, you need to know what this condition is all about. The prostate gland is one that is located right above the bladder. In males, this gland surrounds the urethra. As such this gland plays a critical role in sexual function in that it helps secrete a fluid that is considered a part of semen. When men age, the prostate gland starts growing. This leads to a condition in which pressure is exerted on the urethra, leading to uncomfortable symptoms in elderly men. Interestingly, the exact cause of prostate enlargement is still unknown. While some medicos believe that the accumulation of DHT (dihydrotestosterone) in the prostate as the chief reason, others are of the opinion that decreased testosterone levels lead to less production of estrogen and thus creating a lot of pressure on the body. Whatever the exact reason; there is no denying the fact that there is effective and affordable prostate enlargement treatment in Delhi.

As a majority of symptoms are, in a way, related to urinary function, some of the commonest symptoms include interrupted or weak stream, leaking, urgency, and frequent urination, etc. All these symptoms could mean an enlarged prostate. When such is the case in a person, he will be stressed out in the bladder region and may eventually lead to damage of bladder. Some other serious signs of this include frequent urinary tract infections, incontinence, bladder stones, etc.

In Ashok Clinic, there is reliable prostate enlargement treatment in Delhi that patients can look forward to. Transurethral needle ablation, transurethral microwave thermotherapy, and other surgical procedures are commonly employed to keep the prostate enlargement condition in check. Anyone suffering from this condition needs to make sure to consult the doctor and seek suitable treatment. It is only this way they can lead a normal and happy life.

गुप्त रोग की जानकारी हिंदी में | Gupt rog ki jankari hindi me ​

Gupt rog ki jankari hindi me

हमारी वेबसाइट पर आप का स्वागत है | में डॉक्टर अशोक गुप्ता अशोक क्लिनिक दिल्ली से आपकी सेवा में हाजिर हु | और हम अपने ज्ञान के अनुसार अपनी वेबसाइट के माधयम से आप को कुछ न कुछ बताते रहते है |

आज हम आपको गुप्त रोग की जानकारी हिंदी में (Gupt rog ki jankari hindi me ​) बतायंगे | गुप्त रोग के बात सुनते ही व्यक्ति मुँह बना लेते है | गुप्त रोगी को हीन भावना से देखते है |

वास्तव में लोगो को गुप्त रोग की जानकरी नहीं है | आपको इसकी सही जानकारी की जरुरत है | लोग हेर प्रकार की गुप्त अंगो की बीमारी को गुप्त रोग समझते है | पर गुप्त रोग केवल सिफलिस और गोनोरिया ये सामान रूप से औरतो और मर्दो को होते है |

गुप्त रोग के कारण

ये सम्भोग के माध्यम से फलते है |
१. पार्टनर का इस समस्या का होना |
२. अनजान व्यक्ति से बनी कंडोम सम्भोग करना |

गुप्त रोग दो प्रकार के होते है |

१. गोनोरिया – निसेरिया गोनोरीए नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। जो सम्भोग के दौरान पीड़ित से दूसरे के गुप्त अंग पैर भी आ जाता है| | यह बहुत तेजी से फैलता है। यह आपके गले, मूत्र नली, योनि और गुदा को संक्रमित कर सकता है। इस से बचने के लिए पीड़ित पार्टनर का इलाज कराये | अनजान व्यक्ति से बनी कंडोम सेक्स न करे |

२. सिफलिस – सिफलिस में गुप्तांग पर छाले पड़ जाते है खून बहता है, जखम हो जाते है | इस से बचने के लिए हमे कंडोम का इस्तमाल करना चाहिए |

गुप्त रोग का समाधान

अगर अब अभी किसी भी गुप्त रोग से पीड़ित है तो अपने फॅमिली डॉक्टर को दिखये, अपना खून टेस्ट कराये | हिचकिचाए नहीं, सरमाये नहीं सवाल आपके शरीर का हे |

किसी भी प्रकार की सहायता के लिए कभी भी मुझे संपर्क करे | हम आपके स्वतः के लिए समर्पित है |

उम्मीद करता हु आपको मेरा लेख पसंद आया होगा | अगर पसंद आया है तो इसे शेयर करे ताकि आपके नजदीकियों को भी इसका लाभ मिल सके |

अगर आपक गुप्त रोग का घरेलू उपाय जानना कहते है तो यह क्लिक करे |

Gupt rog

 

swapandosh ke karan

स्वपनदोष के अश्ली कारण | Swapandosh ke karan

नींद में वीर्य पात हो जाने को ही स्वप्नदोष कहते है | जब स्वप्नदोष रोज होने लगे तो ये एक गंभीर समस्या है | युवाओ में स्वप्नदोष होना सव्भाविक है | लड़के और लड़कियों में सामान रूप से होता है | क्योकि युवा अवस्था में सेक्स हार्मोन्स बहुत एक्टिव होते है और योन अंगो में भी इंट्रेस्ट काफी बढ़ जाता है | इस कारण रात को सोते समय उन्हें सम्भोग के, गुप्त अंगो के सपने आते है और स्वप्नदोष हो जाता है |

अगर यह समान्य रूप से होता है तो कोई घबराने की बात नहीं है | यह एक सामान्य बात है | अगर ये निरन्तर हो तो ये जानना जरुरी हो जाता है की इसके कारण क्या है |

स्वप्नदोष के कारण निम्नलिखिते हो सकते है |

1. अश्लील कंटेंट – अश्लील कंटेंट आज की इस आधुनिक युग में काफी आम होगया है | कोई बेचा भी सिर्फ गूगल सर्च से बिना वस्त्र की फोटो देख सकता ये वीडियो देख सकता है | तो ये बहुत जरुरी हो जाता है की कम से कम 13 साल की उम्र तक बच्चों को इंटरनेट से दूर रखा जाये |
2. संगती – गलत संगति में बच्चा अश्लील कंटेंट के बारे में जनता है | इसलिए यह सुनश्चित करे की आपके बचे की संगति कैसे है |
3. गलत दिनचर्या – अगर आप सुबह की शुरुवात एक्ससरसिस या योग से करे, भोजन समय पर करे और समय पर पढ़े | तब स्वानदोष आपको नहीं होगा |
4.कब्ज होना या पेट गर्म होना
5. रात्रि को गर्म दूध पीकर सोना
6.रात्री में पेशाब को रोक कर रखना

अगर आप को स्वानदोष की समस्या है तो इसके समाधान की लिए यह क्लिक करे http://www.ashokclinic.in/swapandosh/

धात रोग के उपाय | Dhat rog ke upay

धात रोग पुरषो की बीमारी है | जब लिंग में तनाव आने पर लिंग से चिपचिपा पानी निकलता है उसे ही धात की समस्या कहते है | कुछ मामलो में तो महिला को देखने व छूने मात्र से ही वीर्य निकल जाता है | समस्या अधिक बढ़ने पर मल – मूत्र त्यागने पर भी पानी निकलता है | इस से रोगी की शरीर में काफी कमजोरी हो जाती है | रोगी का सेक्स जीवन पूरी तरह से खराब हो जाता है | इसका समय पर इलाज होना जरुरी है इस से पहले की समस्या नासूर बन जाये |

पर हमरे समाज में योन रोगियों को काफी हिन् भावना से देखा जाता है जिसके कारण लोग अपने इज्जत रखने के लिए खुल कर इस समस्या को कह नहीं पाते और समस्या गंभीर रूप धारण कर लेती है |

इस लिए आज हम आपके लिए कुछ धात रोग के उपाय Dhat Rog ke Upay लाये है जो आप घर पर ही केर सकते है, ताकि समस्या को शुरू में खत्म कर सके |

 

धात रोग के घरेलू उपाय ( Dhat rog ke ghrelu upay ) –

 

धात की समस्या अगर अभी हुई है तो ये घरेलू उपाय आजमाए निश्च्ते ही फायदा होगा |

1. केला करे धात रोग को दूर – रोजाना सुबह दो केले खा केर ऊपर से दूध पे ले इस से धात रोग में काफी आराम मिलेगा |

2. लोकि क जूस धात रोग में लाभ दायक – रोजाना लोकि का जूस पिए इस से शरीर में ठंडक आएगी और वीर्य का पतलापन दूर होगा |

3. दही करे धात का अंत – सुबह – शाम 2 कटोरी दही खाये कुही दिनी में धात की समस्या खत्म हो जाएगी |

4. उड़द की दाल भी करे इलाज – उडद की दाल को पिश कर दासी गहि में भून ले और सेहद मिला केर रोजाना खाये |

5. भिंडी पाउडर में है औसधिया गुण – एक चमच भिंडी पाउडर रात को दूध में डालकर ले इस से इस से आपकी कमजोर नसों में ताकत आएगी और वीर्य को रोकने में सहायक होंगी |

 

धात के आयुर्वेदिक उपाय ( Dhat rog ke Ayurvedic upay ) –

 

जब समस्या को अधिक समय जो जाये तो आयुर्वैदिक जड़ीबूटियां आजमाए |

1. अशवगंधा है संजीवनी – अश्वगंधा हेर परकार की सेक्स समस्या में संजीवनी बूटी का काम करती है | इस तरह धात रोग में रात को सोने से पहल दूध में एक चम्मच अशवगंधा पाउडर डालकर ले कुछ ही दिनों में धात गिरना बन्दे हो जायेगा |

2. तुलसी से इलाज – तुलसी के बीज 1 से 2 ग्राम रात दूध में डाल कर लेने से 20 से 25 दिन में वीर्य गाढ़ा हो जायेगा और धात गिरनी बंद हो जाएगी |

3. अर्जुन के छाल भी लाभदायक – 2 चुटकी अर्जुन जी छाल के पाउडर में 1 चुटकी चन्दन मिलाकर पनि में डालकर ले इस से भी 15 से 20 दिन में लाभ होगा |

4. सत्वरी की जड़ भी करे इस्तमाल – 20 ग्राम सतावरी की जड़ का पाउडर 1 गिलास दूध में उबालकर रोज सुबह ले कुछ ही दिनों में पूरा आराम मिलेगा |

घरेलू या आयुर्वेदिक उपाय तभी कामयाब है जब आप की दिनचर्या सही हो | सुबह फ्रेश समय पर हो अगर कब्ज है तो तिरफला चूरण रात को सोने से पहले ले | सुबह व्यायाम जरूर करे | बहार न खाये | घर का बना सादा खाना खाये | मीट और मसलदेर खाने से परहजे करे | पानी अधिक पिए और सलाद ज्यादा खाए |

उपरोक्त दिए गए उपाय आयुर्वेदिक और घरेलू है इनसे आराम निश्चित ही होगा पर समय लगेगा | खुराक समय पर ले और परहजे पुरे करे पूरा लाभ मिलेगा |

अगर समस्या बहुत अधिक बढ़गयी है तो हम से संपर्क करे हम अशोक क्लिनिक के माध्यम से सालो से इन समस्याओ का इलाज करते आ रहे है | और हम आपके स्वस्थ के लिए समर्पित है |

धन्यवाद,
डॉ अशोक गुप्ता

हस्तमैथुन सही या गलत ? (Hastmaithun sahi ya galat)

हेलो दोस्तों ! आपका स्वागत है. आज मैं डॉ अशोक गुप्ता यहाँ आपके साथ इस लेख में एक बहुत ही संवेदनशील विषय पर जानकारी शेयर कर रहा हूँ।
आज के इस आधुनिक युग में किसी भी पेरकरी की जानकरी किसी से भी छुपी नहीं है । इसके फायदे भी है और नुकसान भी, इन्ही में से इक नुकसान है । एडल्ट कंटेंट का कम उपंर के बचो तक पहुंचना। जिसक्के कारन वो बचपन में ही गलत आदतों में पद जाते है जैसे हस्तमैथुन ।

हस्तमैथुन सही या गलत ।
अधिकतर लोग अपने जीवन में हस्थमैतुन करते है और ये एक सामान्य बात है पैर समस्या तब गंभीर हो जाती है । जब आप इसके अदि हो जाये और हफ्ते में २ बार से ज्यादा हस्तमैथुन करे। इसके परिणाम और भी गंभीर हो सकते है यदि 18 से कम उमार में हे आपको हस्तमैथुन की लत हो जाये ।

हस्तमैथुन की लत के कारण ।
हस्तमैथुन का सीधा और साफ कारण है दिमाग में गलत विचार का होना । जीन वजहों ये ये गलत विचार दिमाग में आते है वो इस प्रकार है ।
1. यौवन का आना – जब लड़को या लड़कियों को यौवन अत है तो उनकी गुप्त अंग में रूचि बढ़ जाती है । और किसी दोस्त की सलहा को मानकर हस्तमैथुन करने लगते है अगर उन्हें समय पर सही सेल्हा न मिले तो वो इसके अदि हो जाते है ।
2. गलत संगत – बचे अधिकतर हस्तमैथुन गलत सांगत में ही सीखते है या गलत संगत में एडल्ट फिल्म देखकर काम उम्र में ही उत्तेजित होने लगते है और ऐसे में हस्तमैथुन की लत का सीकर जो जाते है ।
3. अकेलापन – जैसा हम जानते है की खली दिमाग शैतान का घर होता है । खली समय में दिमाग में यौवन अवस्था के कारण एडल्ट बाते आने लगती है और बच्चे हस्तमैथुन करने लगते है ।
4. इंटरनेट – आज कल हेर घर में इंटरनेट है । और बच्चोके हाथ में मोबाइल रहते है तो वो इस का इस्तमाल पोर्न देखने में करने लगते है और हस्तमैथुन के अदि हो जाते है ।
5. सही सलहा का आभाव – हम चाहे कितना भी दोसे संगति या पोर्न को दे ले पर सच यह भी है की इन सबके होते हुए भी कुछ बचे हस्तमैथुन नहीं करते । इसके सबसे मुखी कारण सही सलहा का आभाव है । हमारे समाज के रवैये के कारण सेक्स एजुकेशन को गलत मानाजाता है न ही कोई घर में इस गंभीर मुड़े पर बात करता है । तो बच्चा को जो बात दोस्तों से पता चलते है उसे ही सही मने लगता है । चाहे वो सही हो या गलत ।

हस्तमैथुन के नुकसान ।

अत्यधिक हस्तमैथुन के मनु शरीर पर काफी दुष्प्रभाव होते है । जैसे..

1 शरीर में कमजोरी – जैसा आप जानते होंगे 1 विरए की बुँदे बने में 10 खून की बूंदो का योगदान होता है । अत्यधिक हटमाटहुँ से काफी वीर्यव निकलता है । और शरीर का अधिकतर खून विरए बनाने के ही लग जाता है और शरीर में कमजोरी अणि लगती है ।
2 आलास – शरीर में कमजोरी आने से सुस्ती आजाती है और किसी काम में मन नहीं लगता। जिसका सदी असर आपकी पढाई और काम पर होता है ।
3 कमर के निचले हिसे में दर्द होना – अत्यधिक हस्तमैथुन करने से कमर का निचला हिस्सा कमजोर जो जाता है । फलसवरूप कम उम्र में ही निचले हिंसा में दर्दे रहने लगता है । उम्र बढ़ने के साथ घुटनो में भी दर्दे रहें लगता है ।
4 शुक्राणु की कमी – अधिक विरए निकलने ये विरए कफर पतला हो जाता है और शुक्राणु की कमी आजाती है ।
5 शीघ्रपतन की समस्या – हस्तमैथुन करते समय वयक्ति को क्लाइमेक्स तक पहुंचने की जल्दी होती है, ऐसा लम्बे समय तक करने से यही उसके शरीर की आदत भी हो जाती है और पार्टनर के साथै सेक्स करते समय आदत वस् क्लाइमेक्स जल्दी हो जाता है और पार्टनर भी असंतुस्ट रह जाता है।
6 नामर्दी की शिकायत – कुछ मामलों में अत्यधिक हस्तमैथुन से सेक्स में रूचि कम हो जाती है और sadi के बाद वयक्ति को तनाव नहीं आता और वह सेक्स करने में असफल रहते है ।

हस्तमैथुन का इलाज ।

हस्तमैथुन इक मानसिक बीमारी है । इसका इलाज भी संभव है । इसका इलाज किस डॉक्टर से जयादा रोगी की इच्छाशक्ती पर निर्भर है । यदि रोगी इस के इलाज के लिए दृढ़संकल्प है तो केवल इसके कारणो को रोकना होता है ।

1. किसी भी प्रकार के एडल्ट बातो, फोटो या वीडियो से दूर रहे ।
2. अपने दिमाग को किसी बड़े लक्ष्य की और केंद्रित करे । इस से बेकार बातो के लिए आप के दिमाग में जगह ही नहीं रहेगी ।
3. केवल उन्ही लोगो के साथ रहे जो आपकी लक्ष्य प्राप्ति में सहायक हो । इस से आपकी संगत सही होगी और टोकरी में सब का उद्धरण तो आप भी जानते होंगे ।
4. कुछ युवाओ को रात में हस्त्मथुन के बिना नींद नहीं आती वो सुबह जल्दी उठे दिन में आराम न करे, अगले दिन के लिए सोने से पहले योजना बनाये, इस से आप अगले दिन के लिए उत्साहित रहेंगे और आप को नींद भी जल्दी आएगी ।
5. उपरोक्त सभी से ज्यादा जरूरत है यौवन अवस्था में सही सलहा की ताकि हस्तमैथुन की लत ही न लगे। अगर बचे के माँ-बाप या विध्यापक इस से सम्बंधित सही जानकरी नहीं देंगे तो वो कही सुने बातो को मानकर जीवन को बर्बाद कर लेंगे । आपकी शर्म और संकोच बच्चो के लिए हानिकारक हो सकते है ।

आखिर में मैं डॉ अशोक गुप्ता यही कहना चाहूंगा की बच्चे हमारे देशका भविष्ये है शर्म और संकोच में पेड़ केर इन्हे अज्ञान के अंधरे में न धकेले । अगर आप को लगता है की आप या आपका बच्चा हस्तमैथुन की लत से पीड़ित है तो आप मेरे उपरोक्त दिए इलाज को अपनये इस से आप को जरूर फायदा मिलेगा अगर आप ऐसा कर पाने में असमर्थ है तो निसकंकोच मुझे संपर्क करे ।

धन्यवाद
डॉ अशोक गुप्ता,
अशोक क्लिनिक दिल्ली

स्वप्न दोश क्या है और उसके घरेलू उपाय | Swapndosh kya hota hai or iske gralu upay

कुछ लोग सुबह जब बिस्तर से उठते हैं तो उनको पाजामा या निकर चिपचिपा सा दिखाई देता है और बिस्तर भी गीता हो जाता है। यह मूत्र से गाढ़ा होता है इसको पहली बार देखकर कुछ लोग आष्चर्य चकित रह जाते हैं ऐसा वास्तव कामुक सपने देखने के कारण होता है। जिसे स्वप्नदोश कहते हैं।
स्वप्नदोश के कारण अभी तक स्पश्ट नहीं सके कुछ अध्ययनों के अनुसार जब बच्चा अपनी किषोर अवस्था में आता है तो उसमें स्पर्म बनने लग जाते हैं। जब वह अपनी किषोर अवस्था में आता है तो वह अपने वीर्य से बच्चे उत्पन्न कर सकता है। अगर इस अवस्त्था में किसी महिला योन स्पर्ष करेंगे तो उसको गर्भ रूक जायेगा। यौवन के दौरान जब आपके षरीर में वीर्य बन जाता है उससे मुकत होने केलिए स्वप्न दोश एक जरिया है।

स्वप्नदोश कोई आष्चर्यचकित विशय नहीं है इसको कम करने के लिए आप हस्त मैथुन कर सकते हैं या किसी महिला से सम्भोग कर सकते हें। ऐसा करने से आपको स्वप्न दोश कम हो जाता है। इसके लिए आप किसी डाक्टर या अपने अभिभावक से सलाह ले सकते हैं।

 

स्वप्न दोश के नुकसान इस प्रकार है।

1 इससे चक्कर, अनिंद्र, घुटनों में दर्द समस्या होने लगती है।
2 स्वप्न दोश षुक्राणुओं की कमी आ जाती है।
3 इस बीमारी से स्मरण षक्ति कम हो जाती हैं एवं आंखों की रोषनी कम होन का खतरा पैदा हो जाता है।
4 इस बीमारी से मानव षरीर में हार्मोण में कमी आ जाती है।
5 पुरूशों में सेक्स करने की षक्ति कम हो जाती है।
6 तनाव व चिंताऐं बढ़ जाती है।
7 व्यक्ति अपना आत्मविष्वास खोने लगता है।
9 षरीर में खून की कमी आ जाती है।
10 मनुश्य किसी भी काम को मन लगाकर नही ंकर सकता।
11 बदहजमी की परेषानी आ जाती है।
12 इस बीमारी षरीर में कब्ज पैदा हो जाती है।
13 स्वप्न दोश के कारण अंडकोश में दर्द होने लग जाता है।
14 बलों का झड़ना षुरू हो जाता है।
15 आदमी में बहुत ही ज्यादा कमजोरी महसूस होती है |

 

स्वप्पदोश के घरेलू उपाय इस प्रकार हैं:-

1 अनार से स्वप्न दोश का आप खत्म कर सकते हैं। आप रोजाना सुबह सुबह एक अनार खायें। आप अनार के छिलके को सूर्य की धूप में सुखाने के लिए रख दें। इन छिलको मिक्सी में पीसकर और षहद मिलाकर उसको दिन में कम से कम दो बार प्रयोग करने से स्वप्न दोश को खत्म किया जा सकता है।

2 स्वप्न दोश से बचने के लिए आप लहसून की दो से तीन कलियां लेकर इनके छोटे छोटे टूकडे करके उनको चबाकर चबाकर खायें। फिर उपर से पानी पी लें। इसके अलावा आप लहसून को खाने में ज्यादा प्रयोग करें। इससे स्वप्न दोश जड़ से खत्म हो जायेगा।

3 प्याज को भी स्वप्न दोश को दूर करने के लिए आप प्रयोग कर सकते हैं। आप को प्याज का जूस बनाकर और उसमें कुछ मात्रा में षहद मिलाकर पीने से स्वप्न दोश को जड़ से खत्म किया जा सकता है।

4 स्वप्न दोश दही के प्रयोग से भी खत्म किया जा सकता है। आप खाने में दही, छाछ या फिर लस्सी एवं रायता के रूप् में प्रयोग कर सकते हैं। इस प्रयोग को आपको सुबह, दोपहर एवं ष्याम को करना चाहिए। इससे स्वप्न दोश में काफी आराम मिलेगा।

5 आंवला से भी स्वप्न दोश जड़ से खत्म किया जा सकता है। रोजाना आप एक गिलास आंवला जूस पी सकते हैं और उसमें आप षहद और हल्दी भी मिलाकर पी सकते हैं। आप आंवला का चूर्ण को एक गिलास पानी के साथ रात को सोने से पहले प्रयोग कर स्वप्न दोश को दूर किया जा सकता है।

6 बादाम दूध से स्वप्न दोश को दूर किया जा सकता है। आप रात को सोने से पहले गरम गरम दधू पी लें। आप यह भी कर सकते हैं कि 4 से 5 बादाम को रात को पानी में भिगोकर सुबह उनसे छिलका निकाल कर उनको मिक्सी में पीस कर उसका पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को एक गिलास दूध के साथ इसमें कुछ षहद की मात्रा मिलकार पी सकते हैं। इससे स्वप्न दोश बिल्कुल खत्म हो जायेगा।

7 मेथी के बीज भी स्वप्न दोश में काम आते हैं। आपको सबसे पहले एक चम्मच षहद के साथ दो चम्मच मेथी को जूस लें। इसके दोनों मिश्रणों को मिलाकर रात को सोने से इसको पीयें। इस मिश्रण आपको दिन में एक बार जरूर प्रयोग करें। मेथी के बीज में हार्मोन को कन्ट्रोल करने की क्षमता होती है।

8 केले और दूध के मिश्रण से स्वप्न दोश कम किया जा सकता है सुबह सबसे पहले आप दो केले छिलकर खायें फिर उसके उपर दूध पी लें। इस पेस्ट को प्रयोग करने से स्वप्न दोश का काफी राहत महसूस करेंगे।

स्वप्न दोश का चिकित्सीय  इलाज:-

अगर स्वपनदोष निरंतर हो तो समस्या गंभीर हो जाती है । तब किसी डॉक्टर से सलहा जरूर ले। किस भी नीम-हाकिम से बचे और किस अच्छे डॉक्टर को दिखाए । या कॉल करे अशोक क्लिनिक पर।

 

डॉ अशोक गुप्ता,

 

gupt rog kya hai

Gupt Rog Kya Hai – गुप्त रोग क्या है

सैक्यूली ट्रांसमिटिड डिसीसेस को हम गुप्त रोग कहते है हैं । क्योंकि हमारे समाज में सेक्स संबधित सारी बातों के बारे में खुलकर बातें नहीं कर सकते। सेक्स शाररिक और मानसिक जरूरत वाली चीज है। सम्भोग का आन्नद पाने के लिए पुरूश व महिला दोनों अलग अलग आदमी और औरतें से समभोग करते हैं तो उनको गुप्त रोग होने की सम्भावना होती है। गुप्त रोग आपस में आदमी या महिला चेन्ज करने से या बल्ड से या सिरिंज के प्रयोग करने से एक दूसरे से फैलता है। अगर किसी गर्भवती महिला को गुप्त रोग है तो उसके बच्चे को भी गुप्त रोग हो जाता है। इस लिए यह जाना आप के लिए जरुरी है की “गुप्त रोग क्या है”।

गुप्त रोग के प्रकार

गोनोरिया
सिफलिस
हर्पीस
क्लैमाडिया
एच आई वी

गुप्त रोगो के बारे में विस्तृत जानकारियाँ

गोनोरिया – निसिरिया गोनोरिया नाम का बैक्टिरिया नाम का नाम का गुप्त रोग का कारण है। ये बैक्टिरिया सेक्स के दौरान एक आदमी से दूसरे आदमी फैलता है। इस रोग के लक्षण पुरूशों में इंसैक्षन के 14 दिनों बाद इनकी पेशाब की नली में जलन होने लगती है इससे पीला या सफेद पानी बाहर निकलता है। और गृहस्थी करने में पहले झड़ जाता है और पेशाब में जलन होती है।

सिफिलिस – टेरीपोनिमा पालीडम बैक्टिरिया सिफिलिस के कारण होता है। यह रोग भी सेक्स के कारण ही पैदा होता है । इस गुप्त रोग से 10 दिन के बाद इंफेक्सन की जगहे एक लाल सा निषान हो जात है। यह निषान बाद में चला जाता है। लेकिन बैक्टीरिया फिर भी रह जाता है। और इसकी दूसरी स्टेज पर 15 दिन से 6 महीने के बाद परागत होता है और शरीर पर रास होता है। खासकर पैरों के तलवे व हाथ में इसका असर हो जाता है। इस बीमारी से सिर में दर्द और बुखार भी आ जाता है। यह दवाई से सही हो जाता है लेकिन जो तीसरी स्टेज है वह बहुत ही खतरनाक होती है । ये दीमाग, दिल हडडी, व रीड़ की हर्डिडयो पर अपना असर दिखाता है जिससे हार्टअटैक, पागल, पायरलिस, बहरापन और हड्डियों के रोग से पीडित होता है। अगर गर्भवती महिला ने बच्चा पैदा किया तो बह होते ही मर जायेगा, बहरापन, या अन्धा पेदा होगा।

हर्पीस – हर्पीस होने का कारण है हर्पीस सिम्पलैक्स वायरस जो कि दो प्रकार का होता है। इस रोग का संक्रमण सैक्स के दौरान होता है। यह वायरस शरीर में रहकर भी इसके कोई लक्ष्ण नहीं होता है। इस बीमारी से पहले बुखार आता है, गर्दन में दर्द होता है फिर षरीर में कमजोरी महसूस होती है इस इंसपैक्सन से गुप्तांगों में होता है और एक छोटा सा पोडली होता है जो कि अल्सर में परिवर्तित हो जाता है। इससे पेषाब करने पर खुजली होती है और 15 दिन के बार ये अल्सर अपने आप गायब हो जाते हैं। फिर दोबार दिखाई देने लगते हैं।

क्लैमाईडिया – क्लैमाईडिया को उरिर्थिसिस के नाम से जाना जाता है। ये जन्तु सैक्स के दौरान फैलते हैं और गेनोरिया जैसे गुप्त रोग उत्पन्न हो जाते हैं। इसका इंसपैक्सन होने के 7 से 21 दिनों तक इसके लक्षण महसूव किये जात सकते हैं।

एचआईवी – एचआईवी एक जानलेवा बीमारी है जिसका कोई ईलाज नहीं है। इसका असर सीधा इतना खतरनाथ नहीं है लेकिन इमुनिटि को नाष करने के कारण षरीर में सभी प्रकार के रोग हो सकते हैं।

गुप्त रोग के लक्षण:
1. पेषाब में जलन
2.  गुप्तांगों पर फफोले
3. गुप्तांगों में मस्से हो जाना
4. त्वचा पर रास
5. लिंग या योनी से डिस्चार्ज
6. पेट में दर्द

क्या गुप्त रोग मिट सकते है |

हाँ जी गुप्त रोगों का समय पर ईलाज किया जाए तो इनका जड़ से खतम किया जा सकत है। इसके लिए आप किसी सही से डाक्टर से ईलाज करवा सकतेे हैं। या आप घरेलू उपचार से इलाज कर सकते हैं। कई बार ऐसा होता है कि कीटाणु ज्यादा फैल जाते हैं तो घरेलू उपचार काम नहीं करता है तो आयुर्वेदिक दवा से भी इस बीमारी का इलाज कर सकते हैं। ऐलापैथिक इवाई से भी इस बीमारी का इलाज किया जाता है। पेन्सििलिन से सिफिलिस का इलाज किया जाता है कुछ एन्टीवाइटिक दवाओं से एचआईवी का इलाज किया जाता है।

किसी भी परकर की जानकारी के लिए संपर्क करे अशोक क्लिनिक दिल्ली । हम आपकी सहायता का पूरा प्रयास करेंगे ।

डॉ अशोक गुप्ता,
धनयवाद

शीघ्रपतन के घरेलू उपाय

स्खलन का अर्थ है कि लिंग के माध्यम से वीर्य का सा्रव होना। शीघ्रपतन को अर्थ मनुशय को समय से पहले वीर्य प्रवाह हो जाना ही है। कई बार देखा जाता है कि जब पुरूश औरत से सम्भोग करता है तो औरत को पूरी तरह से संतुश्ट नही कर पाता क्योंकि जब वह चरम सीमा पर आता उससे पहले ही उसका वीर्य प्रवाह हो जाता है और औरत संतुश्ट नहीं हो पाती। इस उस पुरूश का जीवन बर्बाद हो जाता है। इससे दोनो मिया बीबी में घरेलू झगड़े होते हैं और पुरूश चिड़चिड़ा हो जाता है। उस पुरूश की गृहस्ति बर्वाद हो जाती है। वह पुरूश नही तो काम कर सकता है और अन्दर ही अन्दर उसको चिंता रहती है ।

शीघ्रपतन होने के कारण: प्रारंभिक यौन अनुभव, यौन षोशण, अपने शरीरके प्रति नकारात्मक रवैया, डिप्रेषन, समय से पहले स्खलन होने का डर, षीघ्र स्ख्लन होने से केई लोगों को यह चिंता सताती है कि क्या होगा कहीं मैं पहले ही ना शीघ्रपतन हो जाउं इसलिए भय के कारण भी स्खलने हो जाता है।

शीघ्रपतन के कुछ घरेलू उपाय इस प्रकार हैं:

1. अपने स्खलन रिफलेक्स पर नियंत्रण करना:- नियमित रूप से संवेदनषीलता और उत्तेजना के स्तर के आदी बनने के लिए स्वयं उतेजक (हस्तमैथुन) अलग अलग संवेदना के लिए आप गीले या सुखे हाथ से प्रयोग कर सकते हैं। जब तक आपका वीर्यपात होनो महसूस न हो तब तक यह क्रिया करनी चाहिए जब आपको लगे कि अब वीर्य स्खलन होने वाला है तो आप हस्तमैथुन को रोक दें फिर थोड़ी देर बाद षुरू कर दें। ऐसे ही यह क्रिया आपको कम से कम चार से पांच बार करनी है। तब आपको पता चल जायेगी कि आप कितना नियंत्रण कर सकते है। यह भी आपको पता चला जायेगा। इस क्रिया को करने से आपको यह पता चल जायेगा कि आपका वापसी बिंदू क्या है। जब आप सम्भोग करते हैं और आप चरम सीमा पर होते हैं तो आपको महसूस होगी कि आपका वीर्य निकलने वाला तो उस समय आप अपने लिंग को योनी से बारह निकाल कर कुछ देर के रूक जाये फिर थोड़ी देर बाद आप सम्भोग कर सकते है या अपनी पोजीषन बदल सकते हैं तो पता चल जायेगा कि आपका वापसी बिन्दू क्या है।

2. पैल्विक फलोर मांसपेषी व्यायाम से भी वीर्य स्खलन को रोका जा सकता है। जब आप पेषाब करते हैं तो उसे बीच में रोक कर आप अपनी मांसपेषियों को सिकोडते हैं तो उनको 5 से 10 सेकिण्ड का समय मिल जाता है फिर आप अपनी स्थिति आ जाते हैं तो पेषाब दोबारा षुश् हो जाता है। इस क्रिया को दिन में 10 से 12 बार कर सकते हैं।

3. कंडोम के प्रयोग से भी शीघ्रपतन की बीमारी से निजात मिल सकती हैं। जब आप संभाग करें तो कंडोम का प्रयोग करना चाहिए। ध्यान रहे कि कंडोम को आकार थोड़ा मोटा होना चाहिए।

4. सेक्स से पहले हस्तमैथुन भी शीघ्रपतन में बहुत ही बढ़िया प्रयोग है। जब भी सम्भोग करें तो उससे पहले आप एक बार हस्तमैथुन जरूर कर लें। इससे आपका षीघ्रतपन नहीं होगा। फिर आप में काफी उतेजन पैदा होगी और आप अपने साथी के साथ अच्छी तरह से सम्भोग कर सकते हैं।

5. ड्रग्स और सुन्न करने वाली दवा व स्प्रे की कुछ दवायें जिनका प्रयोग करने से शीघ्रपतन की बीमारी कुछ हद तक कम की जा सकती है। लेकिन ध्यान रहे ये दवा आपको डाक्टर की सलाह से ही लें। एक बार इन दवाईयों को प्रयोग करने से इनकी लत लग जाती है। कई डाॅकटर इस दवा प्रयोग सम्भोग करने से 2 से 3 घंटे के अन्तराल में बताते हैं। कई तो 5 से 6 घंटे पहले बताते हैं। इन दवाओं को बन्द कर दिया जाता है तो यह बीमारी फिर से षुरू हो जाती है। इसलिए इस दवा का प्रयोग में लाने के लिए डाक्टर की सलाह लेनी जरूरी है।

6. आयुर्वेदिक इलाज – आयुर्वेदा में शीघ्रपतन का इलाज संभव है । इसके कोई सीड़ीएफेक्ट भी नहीं है । अशोक क्लिनिक सालो से लाखो मरीजों को शीघ्रपतन से मुक्त क्र चूका है ।