यदि पुरुषों का योनी में लिंग जाने के बाद और वीर्य स्खलन होने के बीच का समय 1 मिनट से कम है तो पुरुष को “definite” Shighrapatan है. 1 से डेढ़ मिनट है तो “probable” Premature Ejaculation है. कई मामलों में शीघ्रपतन की समस्या इतनी बढ़ जाती है कि पुरुष vaginal intercourse शुरू होने से पहले ही इजैक्युलेट कर देता है या सेक्स शुरू होने के फ़ौरन बाद ही उसका sperm discharge हो जाता है.

शीघ्रपतन के लक्षण क्या हैं?

बार-बार प्रयास करने पर भी सेक्स के दौरान ejaculation.
सेक्स करने से पहले मन में शीघ्रपतन का डर आना
Sex करने के बाद एक guilt feeling का होना कि आप partner को संतुष्ट नहीं कर पाए
सेक्स को टालना

शीघ्रपतन 2 प्रकार का होता है:

एक्वायर्ड : इस मामले में पहले व्यक्ति नॉर्मल होता है लेकिन बाद में उसे शीघ्रपतन की शिकायत शुरू हो जाती है.
लाइफ लॉन्ग : यह व्यक्ति को शुरू से रहता है. यानि शीघ्रपतन की प्रॉब्लम पहली बार सेक्स करने से लेकर जब तक वह सेक्स करता है तब तक बनी रहती है.

शीघ्रपतन इन कारणों से हो सकता है:

  1. सेक्स करने का अनुभव ना होना
  2. पेनिस के स्किन का हाइपर सेंसिटिव होना
  3. नए पार्टनर के साथ सेक्स करने पर शीघ्रपतन हो सकता है
  4. कुछ विशेष positions में सेक्स करने पर भी शीघ्रपतन हो सकता है
  5. डिप्रेशन
  6. बहुत दिनों के बाद सेक्स करने पर प्रीमैच्योर इजैकुलेशन की स्थिति आ सकती है
  7. किसी दवा का साइड इफ़ेक्ट
  8. फीमेल पार्टनर को संतुष्ट करने की टेंशन
  9. स्ट्रेस या चिंता, ये सम्भोग या किसी अन्य समस्या को लेकर भी हो सकती है
  10. सेक्स को लेकर guilt feeling होना
  11. संबंधों में समस्या: यदि आप पहले किसी और के साथ सेक्स करते समय PE नहीं होता था, तो संभव है कि current partner के साथ आपके
  12. हार्मोनल प्रॉब्लम
  13. संबधों में कोई दिक्कत है, जिससे ये समस्या आ रही है
  14. कुछ थाइरोइड सम्बन्धी समस्याएं
  15. अनुवांशिक कारण
  16. प्रोस्टेट या मूत्रमार्ग में सूजन या संक्रमण
  17. सर्जरी या आघात के कारण नसों में हुई क्षति
  18. हाई ब्लड प्रेशर
  19. डायबिटीज

 

Shighrapatan ka Ilaj
1) आयुर्वेद – आयुर्वेद की अनेक औषधियां शीघ्रपतन में काम ली जाती है जैसे मकरध्वज, कामिनी विद्रावण रस, अश्वगंधा चूर्ण, जाती फलादि चूर्ण, चंदनादि चूर्ण, चन्दनासव. यह सभी आयुर्वेदिक विशेषज्ञों की देखरेख में ही ली जानी चाहिए.
2) योग प्राणायाम – वैसे भी संपूर्ण शरीर के लिए फायदेमंद है किंतु शीघ्रपतन की चिकित्सा में इससे विशेष लाभ मिलता है. जैसे – वज्रासन, मंडूकासन, शीर्षासन आदि.
3) आधुनिक चिकित्सा – हालांकि, officially शीघ्रपतन के लिए कोई दवा नहीं बतायी गयी है लेकिन कुछ antidepressants को इसमें कारगर पाया गया है.

 

शीघ्रपतन के इलाज के किस डॉक्टर के पास जाना चाहिए?
यदि घरेलू व अन्य उपायों को आजमाने के बाद भी शीघ्रपतन की समस्या बनी हुई है तो आपको किसे अच्छे Sexologist को दिखाना चाहिए. कभी भी शर्तिया इलाज करने वाले झोलाछाप डाक्टरों व हकीमों के चक्कर में ना पड़ें!
Dr. Ashok Gupta –  “शीघ्रपतन एक आम समस्या है जिसका पूरी तरह से इलाज किया जा सकता है!